नूर विद्यालय में अपना लंच बॉक्स लाना भूल गई तथा यह कहते हुए तान्या से

| नूर विद्यालय में अपना लंच बॉक्स लाना भूल गई तथा यह कहते हुए तान्या से उसका लंच साझा करने के लिए कहा, “तुम्हें आज अपना लंच मेरे साथ साझा करना चाहिए क्योंकि कल मैंने तुम्हारे साथ अपना लंच साझा किया था|”

लॉरेंस कोलबर्ग नैतिक विकास के सिद्धांत के अनुसार नूर का कथन ________ अभिविन्यास प्रारूप को ________ अवस्था पर दर्शाता है|

A. कानून एवं व्यवस्था; पश्चपरम्परागत

B. आज्ञापाल; पूर्वपरम्परागत

C. अच्छा होने; परम्परागत

D. आदानप्रदान; परम्परागत

Right Answer is:

SOLUTION

जब बच्चे स्कूल जाना प्रारंभ करते हैं तो उनकी सामाजिक सहभागिता बढ़ती है जिससे उनके सामाजिक विकास में सहायक है। नैतिक विकास का कोहलबर्ग चरण विकास के विभिन्न चरणों को परिभाषित करता है जिसके माध्यम से बच्चे का नैतिक और सामाजिक विकास होता है। कोहलबर्ग के नैतिक विकास के चरणों के अनुसार मित्र-समूह के साथ अनुस्‍थापन अभिविन्‍यास और पारंपरिक अवस्‍था चरण 2 में होती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *