लॉरेंस कोहलबर्ग के नैतिक विकास के सिद्धांत के बारे में निम्नलिखित कथनो

| लॉरेंस कोहलबर्ग के नैतिक विकास के सिद्धांत के बारे में निम्नलिखित कथनों में से सही कथन कौन-सा है ?

A. अलग-अलग उम्र में बच्चे सही व गलत के बारे में भिन्न-भिन्न प्रकार से विचार करते हैं।

B. बच्चों में चिंतन व तर्क शक्तियों का विकास होना।

C. बच्चों की स्मरण शक्ति का बढ़ जाना।

D. अपने स्वार्थ को छोड़कर दूसरों की भलाई का भी ध्यान रखना।

Right Answer is:

SOLUTION

बच्चे के विकास का दूसरा महत्वपूर्ण पक्ष है मानवीय क्रियाओं के सही या गलत होने के मध्य अंत र्करना । बच्चे जिस प्रकार संज्ञानात्मक विकास की विभिन्न अवस्थाओं से गुजरते हैं, लॉरेंस कोहलबर्ग के अनुसार, वैसे ही नैतिक विकास की विभिन्न अवस्थाओं से गुजरते हैं ।कोहलबर्ग के अनुसार, अलग- अलग उम्र में बच्चे सही एवं गलत के बारे में भिन्न- भिन्न प्रकार से विचार करते हैं ।नौ वर्ष की आयु के पहले, बाह्र्य एवं प्रभावी व्यक्तियों के संदर्भ में चिंतन करता है ।उसके अनुसार कोई कार्य गलत है क्योंकि उसके लिए वह दंडित किया जाता है ।बच्चे इन नियमों को ऐसे सुनिश्चित दिशा-निर्देश के रूप में देखते हैं ।जब बच्चे बड़े होते हैं तो वे धीरे- धीरे व्यक्तिगत नैतिक संहिता या नियमावली विकसित कर लेते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *